Home News राखी से पहले ही तीन बहनों के इकलौते भाई समेत 2 की...

राखी से पहले ही तीन बहनों के इकलौते भाई समेत 2 की मौत, मातम में बदली खुशियां

राखी से पहले ही तीन बहनों के इकलौते भाई समेत 2 की मौत, मातम में बदली खुशियां
राखी से पहले ही तीन बहनों के इकलौते भाई समेत 2 की मौत, मातम में बदली खुशियां

राखी के त्योहार की खुशियां बदल गई मातम में। सड़क हादसे में 3 बहनों के भाई समेत दो और जनों की मौत हो गई।

सरदारशहर। यहां राखी के त्योहार की खुशियां अचानक से मातम में बदल गई। सड़क हादसे में तीन बहनों के भाई के समेत दो और जनों की मौत हो गई। हादसा सोमवार को देर रात मेगा हाइवे पर हुआ। एक अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार कस्बे के वार्ड 31 मदीना काॅलोनी निवासी देवीलाल नायक 35 वर्ष और उसके ही रिश्तेदार गांव सीरासर के रहेंने वाले निवासी राकेश नायक 18 वर्ष की हादसे में मौत हो गई। हादसे के बाद ही मंगलवार को पोस्टमार्टम के बाद में शव को परिजनों को सौंप दिए गए हैं।

राखी से पहले ही तीन बहनों के इकलौते भाई समेत 2 की मौत, मातम में बदली खुशियां
हादसे के बाद गमगीन मृतक देवीलाल के बच्चे

तीन बहनों का इकलौता भाई, पांच बच्चों का पिता

हादसे का शिकार हुए देवीलाल तीन बहनों का इकलौता भाई था और वो पांच बच्चों का पिता था। वह खेत-खलिहान में मजदूरी कर के जीवन यापन कर रहा था। रिश्तेदार राकेश के ही साथ वह हरियासर गांव से ही वह मजदूरी कर ही वापस घर लौट रहा था।

दस माह पहले आई थी घर में खुशियां

देवीलाल का पिता मोहनलाल नायक वृद्ध है। पैरों से चलने में भी परेशानी आरही थी। तीन बेटियों के बाद ही इकलौता बेटा देवीलाल हुआ था। देवीलाल नायक के चार बेटियां हो गई। उसके घर दस माह पहले ही एक बेटे का जन्म हुआ तो घर में खुशियां आई थी । लेकिन मोहनराम नायक को क्या पता था कि उसके बुढ़ापे की लाठी को भगवान उन से छीन लेगा।

परिवार के लोगों ने बताया कि है की देवीलाल की सबसे बड़ी बेटी कृष्णा अभी 11 वर्ष की है। इससे छोटी तीजू भी 9 वर्ष की है, आइना 7 वर्ष और वही चौथी बेटी कमली अभी 5 वर्ष की है। देवीलाल का लड़का रामस्वरूप अभी 10 माह का ही हुआ हैं। वहीं हादसे में अपनी जान गंवाने वाला रमेश नायक अभी अविवाहित ही था।

पिता की मौत के बाद देवीलाल के पांचों बच्चे अनमने से हैं। सबसे बड़ी 11 साल की बेटी कृष्णा से लेकर के पांचों भाई-बहन यह नहीं समझ पा रहे हैं कि उनके सिर से पिता का सायां अब इस दुनिया में नहीं रहा है। वह तो टूटे फूटे घर के एक कोने में बैठकर के सब कुछ देख रहे थे। और वहीं देवीलाल की बहन रोशनी,ओमी,और गीता व रोशनी भी भाई की मौत के बाद सदमे में है। : तीन बहनों के इकलौते भाई

देश दुनिया की नई खबरे पाने के लिए हमसे जुड़े ,नई अपडेट के लिए ग्रुप लिंक पर किलिक करे

Homepage

Join WhatApp Group

Group

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here